Full Name:

Email:

Phone:

Choose Course:

Message:

Admissions Open 2019-20

Apply Online

Shoolini university announces innovative courses for new session, professional yoga courses introduced for the first time in region (Hindi)

नए कोर्सेज में प्रोफेशनल योग कोर्सेज में भी रीजन पहली बार प्रस्तुत किए गए

हालिया रैंकिंग में हिमाचल प्रदेश के निजी विश्वविद्यालयों के बीच शूलिनी यूनिवर्सिटी नंबर 1 स्थान पर रही है

सोलन 31 मई 2018: शूलिनी यूनिवर्सिटी ने आज यहां नए शैक्षिक सत्र के लिए अभिनव पाठ्यक्रम की घोषणा की। इस बीच, एजुकेशन वल्र्ड की हालिया रैंकिंग में शूलिनी यूनिवर्सिटी हिमाचल के नंबर 1 निजी विश्वविद्यालय के रूप में उभरा है और इसके साथ ही भारत की 39वीं सर्वश्रेष्ठ निजी यूनिवर्सिटी भी रही है। 

शीर्ष 10 भारतीय यूनिवर्सिटीयों और आईआईटी की तुलना में यूनिवर्सिटी ने अधिक गुणवत्तापूर्ण एवं बेहतर प्रदर्शन किया हैए और दस भारतीय सर्वश्रेष्ठ यूनिवर्सिटीयों और  दस बेस्ट ग्लोबल यूनिवर्सिटीयों के बीच रहा है। यह ग्लोबल औसत के 28ण्8: के मुकाबले शूलिनी के 28.2फीसदी पर दुनिया भर में सबसे अधिक उद्धृत विश्वव्यापी पत्रिकाओं में 10 फीसदी स्तर पर प्रकाशित जर्नल्स के प्रतिशत में औसत वैश्विक सर्वोत्तम यूनिवर्सिटीयों के बराबर है। अंतरराष्ट्रीय सहभागिता के प्रतिशत के संबंध में यूनिवर्सिटी 38 फीसदी के शूलिनी के आंकड़ों की तुलना में 47 फीसदी के अंतरराष्ट्रीय स्तर के करीब है जबकि भारतीय औसत औसत 17.8 फीसदी है।

मीडिया को संबोधित करते हुएए प्रो. पी.के.खोसला, वाइस चांसलर, शूलिनी यूनिवर्सिटी ने बताया कि यूनिवर्सिटी द्वारा प्रस्तुत किए गए नए कोर्सेज अद्वितीय हैं और उनमें से कुछ इस क्षेत्र में पहली बार प्रस्तुत किए गए हैं। इनमें एग्रीकल्चरल इंजीनियरिंग, डेटा एनालसिस, योग, नेटवर्क इंजीनियरिंग, डिजिटल जर्नलिज्म और डिजास्टर मैनेजमेंट शामिल हैं, जिन्हें इस क्षेत्र में पहली बार पेश किया गया है। योग में डॉक्टरेट कार्यक्रम भी योगिक विज्ञान के शोध आधार को मजबूत करने के लिए शुरू किया जा रहा है।

उन्होंने यह भी बताया कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एचआरडी) द्वारा स्थापित प्रतिष्ठित नेशनल इंस्टीट्यूशनल रैंकिंग फ्रेमवर्क (एनआईआरएफ) द्वारा दी गई रैंकिंग के अनुसार सोलन स्थित शूलिनी यूनिवर्सिटी भारत की प्रमुख यूनिवर्सिटीयों में से एक के तौर पर उभरा है। इसने देश में उच्च शिक्षा के संस्थानों में से केवल शीर्ष 101.150 बैंड में अपनी स्थिति को बरकरार रखा है, लेकिन एमबीए में 51.75 बैंड में स्थान अर्जित किया है और 30 वां रैंक प्राप्त करके फार्मेसी में अपना प्रदर्शन सुधार लिया है। यूनिवर्सिटी के पास अन्य प्रतिष्ठित संस्थानों सहित 2009 और भारतीय यूनिवर्सिटीयों के साथ 178 गठबंधन हैं और 200 से अधिक स्टूडेंट्स ग्लोबल एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत हैं।

नए पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी देते हुएए वाइस चांसलर ने बताया किए बीएससी (ऑनर्स) 8 सेमेस्टर की एग्रीकल्चर डिग्री और 60 सीटों के साथ, कृषि उद्योग और सहायक संगठन में कैरियर की एक विस्तृत श्रृंखला के लिए स्टूडेंट्स को तैयार करता है। स्कूल ऑफ एग्रीकल्चर का उद्देश्य सक्षम कृषि वैज्ञानिकों और इंजीनियरों को तैयार  करना है, जो जलवायु परिवर्तन और शुरुआती अवस्था में चल रही दूसरी हरी क्रांति की चुनौतियों से निपटने के लिए अच्छी तरह सुसज्जित हों। 

बीएससी हॉस्पिटैलिटी एंड होटल एडमिनिस्ट्रेशन नेशनल काउंसिल फॉर होटल मैनेजमेंट एंड कैटरिंग टेक्नोलॉजी जेईई या किसी अन्य मान्यता प्राप्त प्रवेश परीक्षा के माध्यम से शूलिनी के अपने टेस्ट सहित पेश किया गया है।

प्रो. खोसला ने कहा नेटवर्क इंजीनियरिंग में डिप्लोमा के माध्यम से, नेटवर्क डिज़ाइन और प्रबंधन के क्षेत्र में करियर की प्रगति की तलाश करने वाले लोगों के लिए एक एडवांस कार्यक्रम के लिए जा सकता है। नौकरी के विस्तृत अवसर तकनीकी पेशेवरों के रूप में उपलब्ध हैं जो एक संगठन में कंप्यूटर नेटवर्क की कार्यात्मक दक्षता के लिए जिम्मेदार हैं।

बीएससी योग कार्यक्रम, इस क्षेत्र में पहली बार प्रस्तुत किया गया है, जिसमें 60 सीटें होंगी। ये कोर्स स्टूडेंट्स को योगए इसकी आधारए उपयोग और लाभ के बारे में गहन ज्ञान प्रदान करेगा। इस कोर्स को विशेष रूप से राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर योग प्रशिक्षकों, पेशेवरों और शोधकर्ताओं की बढ़ती आवश्यकता को पूरा करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। शैक्षिक संस्थानों, स्वास्थ्य रिसॉट्र्स, फाइव स्टार होटल, जिम्नेशिया, चिकित्सा संस्थानों और थेरेपी केंद्रों जैसे विभिन्न क्षेत्रों में योग पेशेवरों के लिए नौकरी के ढेरों अवसर उपलब्ध हैं। बीएससी योग में 6 सेमेस्टर होंगेए एमएससी योग 4 सेमेस्टर का होगा। योग में डॉक्टरेट कार्यक्रम भी क्षेत्र में योग विज्ञान में अनुसंधान की प्रगति के लिए एक नया और महत्वपूर्ण कदम होगा।

सोशल मीडिया नेटवर्किंग की बढ़ती जरूरत के साथ, यूनिवर्सिटी ने डिजिटल जर्नलिज्म कोर्स भी पेश पेश किया है। यह कोर्स स्टूडेंट्स को गहन एवं आतंरिक जानकारी प्रदान करेगा कि कैसे सोशल मीडिया रणनीतियों की योजना कैसे बनाएं, सही ऑडियंस तक पहुंचें, सामग्री प्रबंधन और उचित प्रभाव के लिए उचित ग्राफिक्स/ विजुअल सपोर्ट का कैसे उपयोग करें। 

उन्होंने कहा कि आपदा प्रबंधन एक और महत्वपूर्ण कोर्स है जिसे यूनिवर्सिटी द्वारा जोड़ा गया है। यह त्रासदियों और प्राकृतिक आपदाओं के मामले में छात्रों को बचाव अभियान चलाने के लिए प्रशिक्षण देने में मदद करेगा। यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ लंदन के साथ संबद्धता और भागीदारी भी की जा रही है। यह भारतीय हिमालयन राज्यों के लिए एक आदर्श कोर्स है।

मुझे यह बताने में अपार हर्ष हो रहा है कि शूलिनी यूनिवर्सिटी ने एमबीएए बीटेक (बॉयो टैक्नोलॉजी), बीटेक (मैकेनिकल इंजीनियरिंग) और बीटेक (इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग) कार्यक्रमों में 100 प्रतिशत प्लेसमेंट हासिल किया है।

शूलिनी यूनिवर्सिटी ने द्विपक्षीय भागीदारी के लिए युन्नान मिन्ज़ू यूनिवर्सिटी, क्यूमिंग, चीन के साथ समझौता ज्ञापन पर भी हस्ताक्षर किए हैं। शूलिनी यूनिवर्सिटी से पांच शिक्षकों की एक टीम चीन जा रही है और 21 जूनए 2018 को चीन के युन्नान यूनिवर्सिटी में मनाए जाने वाले अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस में भाग ले रही है। टीम सिचुआन यूनिवर्सिटी में योग पर एक कार्यशाला भी आयोजित करेगी। 

शूलिनी यूनिवर्सिटी अपने स्टूडेंट्स को 100 प्रतिशत रोजगार की दिशा में काम करने की पहल करने के लिए इस क्षेत्र की पहली यूनिवर्सिटी है। आज यूनिवर्सिटी द्वारा शुरू किए गए मिशन 130 कार्यक्रम के तहत, यह न केवल अपने ग्रेजुएट्स को विभिन्न नौकरी के अवसरों के लिए तैयार करने की दिशा में काम करेगा बल्कि शीर्ष कंपनियों के साथ साझेदारी करके अपने उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए काम करेगाए जिसका लक्ष्य गुणवत्तापूर्ण ग्रेजुएट्स के लिए 100 प्रतिशत प्लेसमेंट प्रदान करना है, जबकि 30 प्रतिशत अपना शानदार कैरियर बनाने के लिए आगे बढ़ेंगे। 

शूलिनी में नए कोर्सेज

  1. बी टेक एग्रीकल्चरल इंजीनियरिंग
  2. एमएससी डेटा एनालसिस
  3. बीएससी (ऑनर्स) एग्रीकल्चर
  4. बीएससी योग
  5. एमएससी योग
  6. बीएससी हॉस्पेटिलिटी एंड होटल मैनेजमेंट
  7. पीजी डिप्लोमा इन नेटवर्क इंजीनियरिंग 
  8. पीजी डिप्लोमा इन डिजिटल जर्नलिज्म
  9. पीजी डिप्लोमा इन डिजास्टर मैनेजमेंट